श्री हनुमान चालीसा Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi – Hariharan

Hanuman Chalisa lyrics in Hindi (श्री हनुमान चालीसा) – हनुमान चालीसा आपके स्वास्थ्य और जीवन को बेहतर बनाने का एक तरीका है। जो लोग नियमित रूप से पूरी श्रद्धा के साथ हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं, निश्चित रूप से उनको स्वास्थ्य और धन का अत्यंत लाभ होता है। यह हनुमान चालीसा Hariharan द्वारा गाया गया है और संगीत (Music) Lalit Sen और Chander द्वारा रचित है। हनुमान जी को ‘संकट मोचन’ नाम से भी जाना जाता है इसलिए इसे Sankat Mochan Lyrics भी कहा जाता है।

Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi

दोहा :

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार

चौपाई :

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर
जय कपीस तिहुं लोक उजागर

रामदूत अतुलित बल धामा
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा

महाबीर बिक्रम बजरंगी
कुमति निवार सुमति के संगी

कंचन बरन बिराज सुबेसा
कानन कुंडल कुंचित केसा

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै
कांधे मूंज जनेऊ साजै

संकर सुवन केसरीनंदन
तेज प्रताप महा जग बन्दन

विद्यावान गुनी अति चातुर
राम काज करिबे को आतुर

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया
राम लखन सीता मन बसिया

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा
बिकट रूप धरि लंक जरावा

भीम रूप धरि असुर संहारे
रामचंद्र के काज संवारे

लाय सजीवन लखन जियाये
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा
नारद सारद सहित अहीसा

जम कुबेर दिगपाल जहां ते
कबि कोबिद कहि सके कहां ते

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा
राम मिलाय राज पद दीन्हा

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना
लंकेस्वर भए सब जग जाना

जुग सहस्र जोजन पर भानू
लील्यो ताहि मधुर फल जानू

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं

दुर्गम काज जगत के जेते
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते

राम दुआरे तुम रखवारे
होत न आज्ञा बिनु पैसारे

सब सुख लहै तुम्हारी सरना
तुम रक्षक काहू को डर ना

आपन तेज सम्हारो आपै
तीनों लोक हांक तें कांपै

भूत पिसाच निकट नहिं आवै
महाबीर जब नाम सुनावै

नासै रोग हरै सब पीरा
जपत निरंतर हनुमत बीरा

संकट तें हनुमान छुड़ावै
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै

सब पर राम तपस्वी राजा
तिन के काज सकल तुम साजा

और मनोरथ जो कोई लावै
सोइ अमित जीवन फल पावै

चारों जुग परताप तुम्हारा
है परसिद्ध जगत उजियारा

साधु-संत के तुम रखवारे
असुर निकंदन राम दुलारे

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता
अस बर दीन जानकी माता

राम रसायन तुम्हरे पासा
सदा रहो रघुपति के दासा

तुम्हरे भजन राम को पावै
जनम-जनम के दुख बिसरावै

अन्तकाल रघुबर पुर जाई
जहां जन्म हरि-भक्त कहाई

और देवता चित्त न धरई
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई

संकट कटै मिटै सब पीरा
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा

जै जै जै हनुमान गोसाईं
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं

जो सत बार पाठ कर कोई
छूटहि बंदि महा सुख होई

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा
होय सिद्धि साखी गौरीसा

तुलसीदास सदा हरि चेरा
कीजै नाथ हृदय मंह डेरा

दोहा :

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप

Written By – Saint Tulsi Das

Music Video Of Hanuman Chalisa

Hope you liked the Hanuman Chalisa lyrics in Hindi given above. We have taken utmost care to provide you the correct lyrics of the Chalisa, however, if you find any corrections or have any comments or suggestions, please do let us know in the comments below.

You can play the music video above to sing along with Hanuman Chalisa Hindi Lyrics.

Hanuman Chalisa Details

Song:Shree Hanuman Chalisa (श्री हनुमान चालीसा)
Album:Shree Hanuman Chalisa – Hanuman Ashtak
Singer:Hariharan
Lyrics:Traditional (Tulsi Das)
Music:Lalit Sen & Chander
Music Label:T-Series

Hanuman Chalisa Lyrics FAQ

हनुमान चालीसा क्या है?

चालीसा भक्त द्वारा अपने ईश्वर की कामना करने और अपनी बाधाओं को हल करने के लिए सरल शब्दों में की गई प्रार्थना है। इसे चालीसा कहा जाता है क्योंकि इसकी चालीस लाइनें हैं। इसलिए भगवान हनुमान के लिए लिखी गई चालीसा को ‘हनुमान चालीसा’ माना जाता है।

हनुमान चालीसा कब लिखा गया था?

हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa lyrics in Hindi) की रचना 16 वीं शताब्दी में भगवान राम के एक महान भक्त तुलसीदास ने की थी।

हनुमान चालीसा किसने लिखी है?

हनुमान चालीसा की रचना तुलसीदास ने की थी जो भगवान राम के एक प्रमुख अनुयायी थे।

हनुमान चालीसा कितनी बार पढ़ें?

Hanuman Chalisa बताते हैं कि इसे कम से कम 100 बार पढ़ने से अत्यंत लाभ होता है। (जो सत बार पाठ कर कोई। छूटहि बंदि महा सुख होई) जिसका अर्थ है कि जो कभी भी इसका 100 बार पाठ करेगा वह अपने उद्देश्य तक पहुंच जाएगा और आपका सारा दर्द और दु:ख दूर हो जाएगा।

क्या मैं बिस्तर पर हनुमान चालीसा पढ़ सकता हूं?

आप पूर्व या दक्षिण की ओर मुंह करके स्नान करने के बाद हनुमान चालीसा पढ़ने का सबसे अच्छा तरीका है।

More Devotional Songs

आरती कीजै हनुमान लला की Hanuman Aarti
बजरंग बाण Bajrang Baan
श्री गणेशजी की आरती Ganesh Aarti
लक्ष्मी आरती Laxmi Aarti

Do you recite the Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi? If Yes, Do you see any difference in you? Do share your thoughts in the comments below.